Utha jag musafir

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहा जो सोवत है,
जो सोवत है सो खोवत है जो जागत है सो पावत है |

Jo kal karnā hai āj karle, jo āj karnā hai vo ab karle,
Jab chiriyon ne chug khet liyā, phir pachitāye kyā hovat hai.

टुक नींद से अंखियां खोल जरा, और अपने प्रभु का ध्यान लगा,
यह प्रीति करन की रीति नहीं, प्रभु जागत है तू सोवत है |

Tuk nind se ankhiyān khol jarā, aur apne Prabhu kā dhyān lagā,
Yah prīti karan kī rīti nahin, Prabhu jāgat hai tū sovat hai.

जो कल करना है आज करले, जो आज करना है वो अब करले
जब चिडियों ने चुग खेत लिया, फिर पछिताये क्या होवत है |

Utha jāg musāfir bhor bhaī, ab rain kahā jo sovat hai,
Jo sovat hai so khovat hai, jo jāgat hai so pāvat hai.

नादान भुगत अपनी करनी, ऐ पापी पाप में चैन कहाँ,
जब पाप की गठरी शीश धरि, शीश पकड़ क्यों रोवत है |

Nādān bhugat apnī karnī, ai pāpī pāp men chain kahān,
Jab pāp kī gatharī shīsh dhari, shīsh pakar kyon rovat hai.